How to Choose Multibagger Stocks India – Multibagger Stocks Kaise Chune ?

How to Choose Multibagger Stocks India – यह सबाल बहुत सारे नए इन्वेस्टर्स के दिमाग में चल रहा होता है। दोस्तों, स्टॉक मार्किट (STOCK MARKET) से पैसे कमाने के लिए सबसे ज्यादा जरूरी होता है अच्छे स्टॉक्स (BEST STOCKS) को चुनना।

अगर आप सही स्टॉक्स में इन्वेस्ट करते हैं तो गिरते हुए मार्किट से भी पैसा कमा सकते हैं। और गलत स्टॉक्स में इन्वेस्ट करते हैं तो बड़ते मार्किट में भी आपका नुकसान सकता है। आज इसी मुद्दे पर हम बात करेंगे की कैसे एक अच्छा स्टॉक्स चुनक और उसमें इन्वेस्ट करे।

आप सिख जाओगे, स्टॉक्स की फंडामेंटल्स एनालिसिस (FUNDAMENTAL ANALYSIS) कैसे करते हैं ? कौन कौनसे फैक्टर है जो अच्छे स्टॉक्स को बाकि सारे स्टॉक्स से अलग करता है।  सिख पाए तो बेफिक्र होकर शेयर मार्किट में इन्वेस्ट कर पाओगे। चालिए जानते हैं, How to Choose Multibagger Stocks India – मल्टीबैगर स्टॉक कैसे चुने ?

अच्छे मल्टीबैगर स्टॉक्स चुनने के लिए जिन चीज़ो के बारे में जानना बहुत जरुरी है वह सारी चीज़े निचे बिस्तार से बताई गयी है।

 

Multibagger Stocks कैसे चुने ?

1. TYPE OF BUSINESS

दोस्तों, स्टॉक सिलेक्ट करने वक्त सबसे पहली चीज जो देखनी होती है, जिस स्टॉक्स में इन्वेस्ट कर रहे हो उसका बिजनेस किस टाइप (TYPE OF BUSINESS) का है और उसमें ग्रो (GROW) होने के चांसेस कितने हैं। क्योंकि आप उसी स्टॉक्स से पैसे कमा सकते हैं जिसका बिजनेस आगे चलके बढ़ सकता है।

अगर आप किसी ऐसे स्टॉक्स में पैसा इन्वेस्ट करते हैं जिसका फंडामेंटल (FUNDAMENTAL) बहुत अच्छे हो लेकिन ऐसा लग रहा हो कि यह बिजनेस आगे चलकर बंद हो सकता है कम हो सकता है तो उस बिजनेस में आपको नुकसान ही होगा। सबसे पहले आपको दिमाग का इस्तेमाल करना है।

इसका एक उदाहरण दे देते हैं, आज के टाइम में प्लास्टिक (PLASTIC) बनाने वाली कंपनी में आप पैसा लगाते हैं तो पूरे वर्ल्ड में प्लास्टिक को बैन (BANNED) किया जा रहा है। अपने साधारण ज्ञान का इस्तेमाल करके भी आप How to Choose Multibagger Stocks India, Multibagger Stocks Kaise Chune -इस सवाल का जबाब ढूंढ सकते हो।

Open a Free Demat Account with UPSTOX

उसका बिकल्प (ALTERNATIVE) ढूंढा जा रहा है प्लास्टिक का बिजनेस आगे चलकर कम ही होगा, उस बिजनेस में ग्रो नहीं होगा, इस कंपनी से आप पैसे नहीं कमा सकते। जबकि आप किसी ऐसे कंपनी में इन्वेस्ट करते हैं जो आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (ARTIFICIAL INTELLIGENCE) के ऊपर काम कर रहा हो तो यह कंपनी आगे चलकर ग्रो हो सकती है और यहां से आप पैसे कमा सकते हैं।

क्योंकि यहां ग्रो होने के संभाबना (POSSIBILITY) बहुत ज्यादा है।  तो शुरुआत में अपने सामान्य ज्ञान (COMMON SENSE) को इस्तेमाल करना है बिजनेस को सेलेक्ट (SELECT) करते वक्त। तो अब आपको समझ आ चुका है कि आपने कौन सी बिजनेस को सेलेक्ट करना है।

 

Multibagger Stocks Chunne ka Tarika Kya Hai ?

2. MARKET CAPITALISATION

दूसरी चीज़ जो आपको देखनी होती है वह है मार्किट कैपिटलाइज़शन (MARKET CAPITALISATION), यानि की वह कंपनी कितनी बड़ी है जिसमे आप इन्वेस्ट करने जा रहे हैं। इस सेगमेंट में 3 केटेगरी होते हैं।

(i) SMALL CAP – जिस कंपनी का मार्किट कैपिटलाइज़शन 5000 करोड़ से कम है

(ii) MID CAP – जिस कंपनी का मार्किट कैपिटलाइज़शन 5000 – 20000 करोड़ के बीच में है।

(iii) LARGE CAP – लार्ज कैप के अंदर वही कंपनी आती है जिस कंपनी का मार्किट कॅपिटलाइज़शन 20000 करोड़ या उससे ज्यादा होती है।

SMALL CAP  छोटी पूंजी की कंपनी होती है उसमे ग्रो (GROW) होने की संभाबना बहुत ज्यादा रहती है। अगर कोई कंपनी 1000 करोड़ की है तो वह आगे जाके 10000 करोड़ बन सकती है। और भबिस्य में 1 लाख करोड़ की भी कंपनी बन सकती है। आपके इन्वेस्ट किये हुए पैसे 100 गुना भी हो सकते हैं।

लेकिन छोटी पूंजी बाली कंपनियों में रिस्क भी बहुत ज्यादा होती है। अगर कोई 1000 करोड़ की कंपनी है और उसको कोई बहुत बड़ा नुकसान होता है तो वह कम्पनी आगे जाके बंद भी हो सकती है। जाहिर सी बात है आपका पैसा भी बहुत ज्यादा रिस्क में होता है।

Open a Free Demat Account with UPSTOX

How to Choose Multibagger Stocks India ?

LARGE CAP – अगर आप लार्ज कैप (LARGE CAP) स्टॉक्स में निबेश करते हैं जिसका मार्किट कैपिटलाइज़शन 20000 करोड़ या उससे ज्यादा है, यहाँ पे आपका पैसा कम रिस्क में होता है। क्यूंकि अगर इस कम्पनी का साथ कभी बड़ी कोई घटना हो भी जाती है  तो वह खुद को फिर से दुबारा ग्रो (GROW) कर सकती है।

लेकिन वहीँ पे आपका जो पैसा है  वह बहुत ज्यादा रिटर्न नहीं दे पायेगा। 2 गुना या 4 गुना हो सकता है अगर आप सोचेंगे आपको 100 गुना रिटर्न मिलेंगे, ऐसे होने के सम्भाबना बहुत काम रहती है। ये सेगमेंट सबसे ज्यादा मयने रखता है ” How to choose multibagger stocks India” इस सबाल के लिए।

MID CAP – इसी तरह  मिड कैप कम्पनी होती है उनमे रिस्क स्मॉल कैप (SMALL CAP) कम्पनी से थोड़ा कम रहता है और लार्ज कैप कम्पनी से से रिस्क थोड़ा ज्यादा रहता है। रिटर्न की बात करे तो स्मॉल कैप कम्पनी से कम मिलता है और लार्ज कैप कम्पनी के तुलना में मिड कैप कम्पनी में रिटर्न थोड़े ज्यादा मिलने की सम्भाबना रहती है।

3. PROFIT  

अभी तक अपने समझा की बिज़नेस टाइप (BUSINESS TYPE) क्या होती है और मार्किट कॅपिटलाइज़शन क्या होता है। अब तीसरी चीज़ जो आपको देखनी होगी की कम्पनी का मुनाफा कितना हो रहा है। क्या उसका मुनाफा हर साल बड़ रहा है या समय के साथ घाट रहा है, या फिर MAINTAINED है ? तो यह चीज़ देखना बहुत ज्यादा जरुरी है।

क्यूंकि कंपनी का मुनाफा हर साल बड़ रहा है तो इसका मतलब कम्पनी अभी ग्रो कर रही है और उसका मुनाफा भबिष्य में बड़ने के सम्भाबना बहुत ज्यादा है। अगर कम्पनी का मुनाफा फ्यूचर में बड़ा तो उसका शेयर प्राइस भी बढ़ेगा इससे आपको फायदा मिलेगा।  लेकिन अगर उस कम्पनी का प्रॉफिट हर साल घट रहा है, इसका मतलब है वह कम्पनी अच्छा प्रदर्शन नहीं कर रही है।

Open a Free Demat Account with UPSTOX

HOW TO CHOOSE MULTIBAGGER STOCKS IN INDIA ?

अगर किसी कम्पनी का प्रदर्शन अच्छा नहीं है तो आपको उस कम्पनी में निबेश नहीं करनी चाहिए। और यह सारी चीज़े पता करने के लिए कम्पनी के पिछले 3 – 4  साल का मुनाफे की तुलना करके देख सकते हो।

कंपनी के QUARTERLY RESULTS में जो मुनाफा होता है आप उसको भी तुलना करके देख सकते हो। यह सब कुछ जानने के बाद आपको पता चल जायेगा कम्पनी नुकसान में है या फिर मुनाफा कमा रही है।

यह मुनाफे वाली जो सेगमेंट है वह सबसे ज्यादा जरुरी है जिससे हम पता  कर सके HOW TO IDENTIFY MULTIBAGGER STOCKS INDIA में।

 

4. DEBT 

अब आपको पता करना है कम्पनी का कर्ज कितना है, कहीं ऐसा तो नहीं की कम्पनी 1000 करोड़ की है और कम्पनी के ऊपर 2000 करोड़ का कर्जा है। क्यूंकि कम्पनी अगर कर्जे में डूब रही है तो उसमे रिस्क भी  थोड़ा ज्यादा रहता है। तो आपको ऐसे कम्पनी में इन्वेस्ट करना चाहिए जिसपे कर्ज उसके मार्किट कैपिटलाइज़शन से कम हो उससे ज्यादा नहीं होनी चाहिए।

हम ऐसे स्टॉक्स को सुझाव देते हैं, जिसका DEBT उसके 2 – 3 साल के प्रॉफिट से चूकाया जा सकता है। किस कंपनी के ऊपर कितना Debt है वह भी ” How to choose multibagger stocks  ndia “के लिए बहुत ज्यादा महत्वपूर्ण है।

Trident Ltd Share Price Target 2022,2025,2030, ट्राइडेंट लिमिटेड शेयर

5. RETURN ON EQUITY

अभी तक अपने कम्पनी के बहुत सारि जरुरी चीज़े देख लिया है। तो अब आपको कंपनी के कुछ फाइनेंसियल देखने होंगे। उदहारण – रिटर्न ऑन एक़ुइटी (ROE) .

RETURN ON EQUITY (ROE) FROMULA = NET INCOME / SHAREHOLDER’S EQUITY

अगर किसी कम्पनी का रिटर्न ऑन एक़ुइटी ( RETURN ON EQUITY) 15 से ज्यादा है तो वह अच्छा समझा जाता है।

 

6. RETURN ON CAPITAL EMPLOYED

RETURN ON CAPITAL EMPLOYED (ROCE) FORMULA = EBIT / (TOTAL ASSETS – TOTAL CURRENT LIABILITIES)

अगर कम्पनी का रिटर्न  ऑन कैपिटल एम्प्लॉयड 20 से ज्यादा हो तो उस कम्पनी को अच्छा माना जाता है।

मल्टीबैग्गेर स्टॉक्स चुनने के तरीके

7. FREE CASH FLOW

अगली चीज़ जो आपको देखनी होगी वह है कम्पनी का फ्री कैश फ्लो (FREE CASH FLOW), यानि कम्पनी के पास कितना एक्स्ट्रा पैसा बचा है। जिसे वह कम्पनी खुदको ग्रो करने में, डिभिडेंड देने में लगा सकती है।

जिस कम्पनी को आप सेलेक्ट कर रहे हैं उसके पास फ्री कैश फ्लो भी होना चाहिए। यह सारि डिटेल्स आपको सहायता करेगी How to choose multibagger stocks India – कैसे मल्टीबैगर स्टॉक्स चुने ?

Open a Free Demat Account with UPSTOX

 

8. PROMOTER HOLDING 

NEXT चीज़ जो आपको देखनी होती है वह है कम्पनी में प्रमोटर्स की होल्डिंग। प्रमोटर्स वह होते हैं जिन्होंने कम्पनी को बनाया होता है। बिशेषग्य के अनुसार, आपको ऐसे कम्पनिओं से दूर रहना चाहिए जिसका प्रमोटर होल्डिंग 45% से कम हो। बात अगर पैनी स्टॉक की हो तो सारे मानदंड (CRITERIA) नहीं मिल सकते।

लेकिन कुछ अच्छी चीज़े भी  चाहिए। इंडियन स्टॉक मार्किट में ऐसे बहुत सारे स्टॉक्स हैं जिसका प्रमोटर होल्डिंग 50% से ऊपर है। आप कोशिश करना उन सभी स्टॉक में इन्वेस्ट करने की।

हलाकि ऐसे कुछ स्टॉक्स है जिसकी प्रमोटर होल्डिंग कंपनी बनते समय से ही कम रहता है। यह आंकड़े ज्यादातर पैनी स्टॉक्स के अंदर देखने को मिलती है। प्रमोटर होल्डिंग सेक्शन भी ” How to choose multibagger stocks India “ के लिए महत्वपूर्ण है।

 

9. PRICE EARNING RATIO (P/E)

जिस कम्पनी का PRICE EARNING RATIO (P/E) बहुत कम हो उस कम्पनी उतना अच्छा माना जाता है। यह परिमाण जितना कम होगा कम्पनी के ग्रो होने के सम्भाबना उतना रहेगा। एक बात का ध्यान रखे प्राइस अर्निंग रेसिओ(P/E) नेगटिब (NEGATIVE) में नहीं होना चाहिए और बहुत कम भी नहीं होना चाहिए।

PRICE EARNING RATIO (P/E) FORMULA = (PRICE PER SHARE – EARNING PER SHARE)

 

10. EARNING PER SHARE 

आप कम्पनी के इस सेगमेंट  चेक कर सकते हैं। किसी कम्पनी का EPS जितना ज्यादा हो उतना अच्छा माना जाता है। लेकिन ऐसा नहीं है की किसी कंपनी के अर्निंग पैर शेयर काम है और बाकि सारे फंडामेंटल सही हो तो उस स्टॉक्स में इन्वेस्ट करने की जरूर सोचे। EPS अगर कम हो तो उससे उतना ज्यादा फर्क नहीं पड़ता।

EARNING PER SHARE FORMULA = (NET INCOME – DIVIDENDS PAYMENT) / WEIGHTED AVERAGE SHARES OUTSTANDING.

 

How to choose multibagger stocks India

11. NEWS

अगर आप शेयर मार्किट में प्रबेश कर रहे हैं तो हर दिन आपको मार्किट से सम्बंधित खबर पर नजर रखनी होगी। जिस भी स्टॉक  निबेश करोगे उसके ऊपर फोकास रखना है।

अगर स्टॉक्स से रिलेटेड अच्छी खबर आती है तो शेयर का प्राइस भी बड़ेगा।  अगर खबर बुरी आती है तो उसका प्रभाव शेयर के दामों में दिखाई दे सकता है।

 

Open a Free Demat Account with UPSTOX

NOTE : शेयर मार्किट (SHARE MARKET) में पैसा लगाने के लिए डीमैट अकाउंट होना बहुत जरुरी है। ऊपर दिए गए लिंक में क्लीक करके अपस्टॉक्स (UPSTOX) जैसे बड़े प्लेटफॉर्म पर आप एक फ्री डीमैट अकाउंट (FREE DEMAT ACCOUNT) खोल सकते हैं।

कम्पनी के बारे में जानने के और भी कई सारे चीज़े थी लेकिन अगर आप ऊपर दिए गए सभी डिटेल्स को अच्छे से याद करलेते है तो  स्टॉक्स आराम से चुन सकते हैं। यह थी कुछ इनफार्मेशन How to choose multibagger stocks India के लिए।

 

 

Leave a Comment