Star Health Insurance IPO Review – Apply or Avoid ? स्टार हेल्थ इन्शुरन्स आईपीओ | Money Roma

STAR HEALTH IPO – स्टार हेल्थ इन्शुरन्स आईपीओ

दोस्तों मार्केट में जब भी बुल RUN होता है तभी एक के बाद एक आईपीओ आने लगते हैं । जब मार्केट में गिरावट चलती है तो उतना आईपीओ मार्केट में नहीं आता है। क्योंकि प्रमोटर्स को पता रहता है कब आईपीओ मार्केट में लाना चाहिए। मार्केट की हालत अगर खराब हो इन्वेस्टर्स आईपीओ में हिस्सा लेना नहीं चाहेंगे। इसीलिए मार्केट में आईपीओ तभी आता है जब हर स्टॉक (STOCKS) में तेजी दिखाई देती है। 

कंपनी का ग्रोथ अगर उतना ना हो फिर भी लोग इसमें इन्वेस्ट करेंगे क्योंकि उन लोगों को लगेगा बाकी सारे स्टोक्स की तरह इस कंपनी के शेयर भी तेजी से भागेंगे। मार्केट में तेजी हो या मंदी आईपीओ आते रहते हैं। लेकिन मार्केट में जॉब बुल रन चलता है आईपीओ के नंबर कुछ ज्यादा ही देखने को मिलता है। आज हम बात करेंगे ऐसे ही एक आईपीओ (IPO) के बारे में जो कि हेल्थ और इंश्योरेंस सेक्टर (INSURANCE SECTOR) से हैं।

What is IPO – आईपीओ होता क्या है ?

आईपीओ (IPO) एनालिसिस से पहले हम जान लेते हैं कि आईपीओ होता क्या है। जब भी कोई कंपनी अपने बिजनेस को बढ़ाना चाहती हो या उसका जो बिजनेस एरिया है उसको कई सारे हिस्सों में एक्सपेंड (EXPAND) करना चाहती हो तो उसके लिए उस कंपनी को बहुत सारे रुपए की जरूरत पड़ती है। कंपनी के पास दो ही रास्ते होते हैं रुपए पाने की।

पहला है बैंक से लोन (LOAN) लेकर जो उसका कंपनी का जो बिजनेस है उस पर व्यवहार या उपयोग करें। कंपनी अगर बैंक से लोन लेती है तो उसको सही समय पर टोटल अमाउंट के ऊपर जो इंटरेस्ट (INTEREST) रहेगा वह बैंक को लौटना पड़ेगा साथ में जो उसका मेन कैपिटल है वह भी वापस करना पड़ेगा। इस रास्ते को चुनने में बहुत सारी कंपनी पीछे हट जाते हैं।

क्योंकि उन्हें लगता है बैंक से लोन लेंगे उसका इंटरेस्ट और जो मेन कैपिटल है दोनों ही उसको वापस करने होंगे इससे अच्छा है मार्केट को जनरल पब्लिक के बीच लाया जाए। तभी मार्केट में उस कंपनी का आईपीओ लाया जाता है आइब्रो का फुल फॉर्म है इनिशियल पब्लिक ऑफर (INITIAL PUBLIC OFFER)। 

Open a Free Demat Account with UPSTOX 

आईपीओ में पब्लिक को इनवाइट (INVITE)  किया जाता है कंपनी के शेयर्स में हिस्सा लेने के लिए। और जब पब्लिक या इन्वेस्टर्स इस आईपीओ में हिस्सा लेंगे तब उस पैसे से कंपनी अपनी खुद का जो बिजनेस है वह बनाने में लग जाएगी। कंपनी का आईपीओ बाजार में आने के बाद उसका जो मालिक है प्रमोटरों (PROMOTERS) के साथ-साथ इन्वेस्टर्स (INVESTOR) को भी कंपनी का हिस्सेदार कहा जाएगा।

BASICS OF STAR HEALTH COMPANY

स्टार हेल्थ इंश्योरेंस आईपीओ के बारे में विस्तार से जानने से पहले जान लेते हैं यह कंपनी किस ऑब्जेक्टिव (OBJECTIVE) से या किस उद्देश्य (PURPOSE) से मार्केट में अपना आईपीओ लॉन्च कर रही है। 

पहला कारण है कंपनी में पहले से ही जिन लोगों ने इन्वेस्ट करके रखा है उन लोगों को एक रास्ता मिलेगा कंपनी के हिस्सेदारी से बाहर निकलने का। दूसरा है कंपनी का जो मार्केट बेस है उस को बढ़ाना साथ में समस्या समाधान के स्तर को और डेवलप करना। और तीसरा कारण यह जो लिस्टिंग बेनिफिट है उसका फायदा उठाना। इन सारी वजह से कंपनी अपना आईपीओ मार्केट में उतार रही है।

साल 2006 से स्टार हेल्थ एंड एलाइड इंश्योरेंस लिमिटेड कंपनी का उद्घाटन हुआ था। कंपनी के मार्केट शेयर की बात करें तो 15.8% का था लास्ट ईयर। यह जो कंपनी है वह लार्जेस्ट प्राइवेट हेल्थ इंश्योरेंस कंपनी (PRIVATE HEALTH INSURANCE COMPANY) है पूरे इंडिया में।

DISTRIBUTOR CHANNEL :

किसी भी कंपनी के हैं दूसरा सबसे पावरफुल प्लेयर होता है उस कंपनी का डिस्ट्रीब्यूटर चैनल (DISTRIBUTOR CHANNEL)। कोई भी कंपनी की डिस्ट्रीब्यूटर चैनल स्ट्रांग (STRONG) हो तो उस कंपनी को ग्रोथ (GROWTH) होने से कोई नहीं रोक सकता, क्योंकि यही वह सेक्टर है जो कि कंपनी के बारे में लोगों तक पहुंचाते हैं। 

जितना जल्दी कंपनी का प्रमोशन होगा उतनी तेजी से इसकी ग्रोथ होगी। जितना बड़ा डिसटीब्यूशन चैनल होगा इतने अच्छे से वह अपने कस्टमर को सर्विस दे पाएंगे। स्टार हेल्थ (STAR HEALTH) के डिस्ट्रीब्यूटर चैनल के बारे में अगर बात करें तो यह एक ऐसी कंपनी है जो कि सबसे ज्यादा इंडिविजुअल एजेंट (INDIVIDUAL AGENTS) रखा  है। 

स्टार हेल्थ प्राइवेट इंश्योरेंस (STAR HEALTH PRIVATE INSURANCE) के पास 5.1 लाख इंडिविजुअल एजेंट है जिन्होंने GWP मैं 80% का योगदान रखा था पिछले साल। स्टार हेल्थ इंश्योरेंस (STAR HEALTH INSURANCE) कंपनी का जो 5.1 लाख इंडिविजुअल एजेंट है उनमें से 62% एजेंट पिछले 2 साल से कंपनी में काम कर रहे हैं।

CORPORATE AGENT :

अगर हम बात करें स्टार हेल्थ इंश्योरेंस कंपनी के कॉरपोरेट एजेंट (CORPORATE AGENTS) के बारे में क्योंकि कोई भी कंपनी का जो डिस्ट्रीब्यूशन है वह सिर्फ इंडिविजुअल एजेंट से नहीं हो पाएगा इसके लिए कॉरपोरेट एजेंट भी चाहिए होंगे कंपनी के ग्रोथ के लिए। 

स्टार हेल्थ इंश्योरेंस कंपनी के 6 कॉरपोरेट एजेंट है जिनके साथ वह काम करते हैं। कॉरपोरेट एजेंट है बैंक ऑफ़ बरोदा (BANK OF BARODA), पंजाब नेशनल बैंक (PUNJAB NATIONAL BANK), पॉलिसी बाजार (POLICY BAZAR), पेटीएम (PAYTM), करूर वैश्य बैंक (KARUR VYSYA BANK) और आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज (ICICI SECURITIES)।

मुझे लगता है आज की डेट में कोई भी कंपनी ऐसी नहीं है जिसका ऑनलाइन स्पेस ना हो। क्यों कि ज्यादातर पब्लिक ऑनलाइन से खरीदारी करते हैं। इसलिए स्टार हेल्थ इंश्योरेंस कंपनी की भी ऑनलाइन वेबसाइट और डैली मार्केटिंग (DAILY MARKETING) टीम है जिनका 18% का योगदान था पिछले साल GWP के अनुसार।

HOSPITAL NETWORK :

सबसे पहले हम यह देखते हैं कि स्टार हेल्थ इंश्योरेंस कंपनी की जो हॉस्पिटल नेटवर्क है वह हेल्थ इंश्योरेंस सेक्टर में सबसे लार्जेस्ट हॉस्पिटल नेटवर्क है। अस्पतालों की संख्या लगभग 11800 है। स्टार हेल्थ की जो मार्केट शेयर है वह है 31% की।

PROMOTERS :

प्रमोटर्स की बात करें तो इसमें सबसे बड़ा नाम है राकेश झुनझुनवाला। राकेश जी ऐसे शख्स हैं जिन्हे शेयर मार्किट में हर कोई पहचानता हैं।  इनको शेयर बाजार का बिग बुल कहा जाता हैं।  स्टार हेल्थ इन्शुरन्स आईपीओ (STAR HEALTH INSURANCE IPO) में इनका मार्किट शेयर है 15% की। IPO आने से पहले ही राकेश झुनझुनवाला ने शेयर में अपने हिस्सेदारी बना ली है।

PRODUCTS : 

किसी भी कंपनी का ग्रोथ में सबसे बड़ा योगदान होता है कंपनी के प्रोडक्ट्स की। अगर फ्यूचर में कंपनी का प्रोडक्ट की डिमांड है तो बह कंपनी जरूर डेवेलोप करेगी। और अगर कंपनी की प्रोडक्ट्स की डिमांड ही न हो वह कंपनी ज्यादा दिन तक टिक नहीं पायेगी। आज हम बात करेंगे स्टार हेल्थ एंड अलाइड इन्शुरन्स आईपीओ (STAR HEALTH AND ALLIED INSURANCE IPO) की प्रोडक्ट्स के बारे में। 

 1 ) FAMILY INSUARANCE POLICY : स्टार हेल्थ इन्शुअरन्स आईपीओ का पहला प्रोडक्ट्स है फैमिली इन्शुरन्स सेगमेंट।  इस पोलिसी में आदमी चाहे तो अपनी पूरी फेमली को लेकर हेल्थ इन्शुरन्स करवा सकता है। 

2) INDIVIDUAL INSURANCE POLICY : अगर किसी की कोई फेमिली न हो या फिर वह ब्यक्ति सिर्फ अपना खुद अकेले का हेल्थ इन्शुरन्स करवाना चाहे तो इस पोलिसी को एक्सेप्ट कर सकता है। 

Open a Free Demat Account with UPSTOX 

3)GROUP HEALTH INSURANCE : क्या आपके साथ आपकी फेमिली नहीं रहती, और आप अकेले कोई भी हेल्थ इन्शुरन्स नहीं करना चाहते ! चिंता की कोई बात नहीं आप इस सेगमेंट में अपने दोस्तों के साथ मिलकर हेल्थ इन्शुरन्स का लुफ्त उठा सकते हैं।

ISSUE SIZE OF STAR HEALTH INSURANCE IPO ?

स्टार हेल्थ आईपीओ इश्यू का आकार 200 करोड़ है जो एक ताजा इश्यू और 60,104677 EQUITY शेयरों की बिक्री की पेशकश को जोड़ता है।

PRE-APPLY FOR STAR HEALTH IPO ?

पूर्व-आवेदन आपको SUBSCRIPTION शुरू होने से 2 दिन पहले आईपीओ के लिए आवेदन करने की अनुमति देगा। स्टार हेल्थ के आईपीओ की तारीखें 30 नवंबर से 2 दिसंबर तक हैं।

READ MORE: Share Market full Analysis in Hindi – शेयर बाजार क्या है हिंदी में

OPEN AND CLOSE DATE FOR STAR HEALTH & ALLIED INSURANCE IPO ?

आईपीओ की तारीखें 30 नवंबर से 2 दिसंबर तक हैं, इसके बाद आप आईपीओ में हिस्सा नहीं ले पाएंगे। 

ALLOTMENT DATES FOR THE STAR HEALTH IPO ?

स्टार हेल्थ इन्शुरन्स आईपीओ की अलॉटमेंट डेट है 7th DECEMBER को। 

LISTING DATE FOR STAR HEALTH IPO ?

स्टार हेल्थ इन्शुरन्स आईपीओ NSE और BSE दोनों ही मार्किट में 10th दिसंबर को लिस्टेड होने वाली है।

मेरी राय : देखा जाये तो स्टार हेल्थ इन्शुरन्स आईपीओ (STAR HEALTH INSURANCE IPO) एक अलग सा पहचान लेके शेयर मार्किट में उतर रही है। इस कंपनी के साथ 11000 से भी ज्यादा हॉस्पिटल जुड़ी हुई है। इंडिया का लार्जेस्ट प्राइवेट हेल्थ और इन्शुरन्स सेक्टर है। अच्छी बात यह है की राकेश झुनझुनवाला जी भी इस कंपनी में पहले से ही 15% की हिस्सेदारी ले राखी है।  मेरे हिसाब में अगर कोई स्टार हेल्थ आईपीओ में हिस्सा लेता है तो वह प्रॉफिट में ही रहेगा क्यों की यह कंपनी हर तरफ से स्ट्रांग दिखाई दे रही है।  अगर आप चाहे तो पुरे एनालिसिस पड़के सोच समझ के आगे बढ़ सकते हैं।  

Leave a Comment